अमरनाथ यात्रियों के जत्थे पर आतंकी हमले की देश-दुनिया में निंदा हो रही है. सोमवार शाम हुए इस हमले में 7 श्रद्धालुओं की मौत हो गई और 19 यात्री घायल हो गए. लोग जहां सरकार से जवाबी कार्रवाई की मांग कर रहे हैं, वहीं सुरक्षा एजेंसियों की तरफ से बड़ी खामी सामने आ रही है.

खुफिया एजेंसियां और राज्य सरकार इस घटना के लिए बस मालिक और ड्राइवर पर ही सवाल उठा रहे हैं कि अमरनाथ यात्रा के लिए उसने जरूरी रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था और न ही बस सुरक्षा मानकों का पालन कर रही थी.

यह बस गुजरात की एक निजी ट्रैवल कंपनी की थी, जिसने इन बातों को सरासर झूठ करार दिया है. ट्रैवल कंपनी के मालिक जवाहर देसाई ने कहा कि ड्राइवर के साथ-साथ सारे भक्तों के पास रजिस्ट्रेशन था और ये कागज हमले के बाद बस में ही छूट गए थे. उन्होंने सुरक्षा एजेंसियों के दावे की पोल खोलते हुए आजतक को सारे दस्तावेज भी दिखाए और कहा कि बगैर रजिस्ट्रेशन बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए कोई जा ही नहीं सकता.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here