सीएम को सुसाइड नोट लिखकर किसान के बेटे ने आत्महत्या की 
बाँदा- जिला मुख्यालय के सदर सीट से लगे गाँव कनवारा निवासी युवा अनुज बाजपेई ने आत्महत्या कर ली है. किसान के बेटे ने ( संपूर्णानंद युनिवर्सिटी,काशी में बीए का छात्र था ) ने बीते शुक्रवार की रात साड़ी से फंदा बनाकर फांसी लगा ली. मृतक ने मुख्यमंत्री योगी को लिखे अंतिम यात्रा पत्र में लिखा कि किसान की कर्जमाफी घोषणा के बाद बाँदा में 12 अक्टूबर को 10 कर्जदार किसानों की ट्रैक्टर नीलामी से मेरे पिता मानसिक रूप से दुखी है. इन किसान पर 60 लाख रूपये कर्जा बकाया था. हमारे परिवार पर बैंक और साहूकार का दबाव है. पिछले तीन साल से खेत में पानी न होने के चलते आनाज नहीं हुआ था. ऐसे में किसान का ट्रैक्टर छीन लिया गया है. ये यातना मेरे पिता बर्दाश्त नही कर सकते है. मृतक के चचेरे भाई सुनील ने बतलाया कि अनुज के पिता प्रमोद ने तीन साल पहले इलाहाबाद तुलसी ग्रामीण बैंक से 50 हजार रूपये ऋण लिया था. ये बढ़कर तीन लाख रूपये हो गया. इस किसान कर्जमाफी में किसान का 68607 रूपये माफ़ हुआ है. बांकी कर्ज माफ़ न होने से प्रमोद का मानसिक संतुलन बिगड़ गया है जिससे अनुज दुखी था ! किसान के 1.362 हेक्टेयर कृषि भूमि है. जिलाधिकारी ने कर्ज से आत्महत्या करने की बात को वैसे ही नकारा है यथा पहले किसानों की आत्महत्या पर सरकारी बयानबाजी ! फ़िलहाल लेखपाल प्रसाशनिक रिपोर्ट दुरस्त करने में तल्लीन है !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here