जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में अमरनाथ यात्रा के दौरान श्रद्धालुओं पर हुए आतंकी हमले की हर तरफ निंदा हो रही है। बुधवार को व्हाइट हाउस ने भी इस घटना की कड़े शब्दों में निंदा की। व्हाइट हाउस ने पीड़ितों के परिवारों और भारत के लोगों के लिए संवेदना व्यक्त की है। अमेरिका ने अमरनाथ आंतकी हमले को धार्मिक स्वतंत्रता पर हमला करार दिया है। अमेरिका की ओर से जारी बयान में कहा गया, “यूनाइट स्टेट 10 जुलाई को जम्मू-कश्मीर में धार्मिक यात्रा पर जा रहे तीर्थयात्रियों पर किए गए कायरतापूर्ण हमले की कड़ी निंदा करता है। हमारी संवेदना पीड़ित परिवारों और भारत के लोगों के साथ है। धार्मिक स्वतंत्रता पर हुआ यह हमला स्वतंत्रता के मौलिक अधिकार पर हमला है। अमेरिका और भारत पूरी दुनिया के हर हिस्से में आंतक के खिलाफ मिलकर लड़ते रहेंगे।

इससे पहले, जब अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और पीएम मोदी की व्हाइट हाउस में मुलाकात हुई थी। मुलाकात के दौरान दोनों देशों के नेताओं ने कट्टरपंथी इस्लामिक आतंकवाद को नष्ट करने पर बल दिया था। ट्रंप ने कहा कि दोनों देश आतंकवाद खासकर इस्लामिक आतंकवाद से प्रभावित है और मिलकर इसे खत्म करेंगे। हम आपसी सैन्य सहयोग को बढ़ाएंगे और अगले महीने के जापान नेवी के साथ हिंद महासागर में सबसे बड़ा समुद्री अभ्या में भाग लेंगे। अफगानिस्तान में भारत की ओर से किए गए प्रयासों की ट्रंप ने सराहना की। पीएम मोदी ने साझा बयान में राष्ट्रपति ट्रंप का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि आतंकवाद जैसी चुनौती सबसे बड़ी प्राथमिकता है। हम मानव जाति की रक्षा के लिए इसे मिलकर खत्म करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here