Wednesday, January 24, 2018

writer

कभी- कभी बहुत गहरे तक चुभ जाती हैं तुम्हारी बातें-सुमन शर्मा

कभी- कभी बहुत गहरे तक चुभ जाती हैं तुम्हारी बातें सहज-सरल सी बातें विष बुझी बाण बन बेध जाती हैं मेरा अंतर्मन नही समझ...

अब आडवाणी से मिलने का मतलब आडवाणी हो जाना…

लाल कृष्ण आडवाणी का एकांत भारत की राजनीति का एकांत है। हिन्दू वर्ण व्यवस्था के पितृपुरुषों का एकांत ऐसा ही होता है। जिस मकान...

विचार-“दोष दृष्टि में है सृष्टि में नहीं”

एक बार किसी व्यक्ति ने संत सुकरात से पूछा श्रीमान चंद्रमा में कलंक और दीपक तले अंधेरा क्यों रहता है? संत सुकरात ने मुस्कराते...
- Advertisement -

RECOMMENDED VIDEOS

POPULAR